गूँज

भारत माता की जय जय कार
सुन रहा सारा संसार
आज़ादी सिर्फ एक दिन की गुलाम नहीं
हर दिन जशन हो, रमे इसमें हम सभी

कहीं है ऊंचे पर्वत , कही है श्रृंख्लाए
कहीं है लम्बी नदियाँ, कहीं है गहरी गुफाएं

लहू से सराबोर अमृतसर का वो बाग
इन्सानियत का हुआ था जहाँ कत्लेआम
यूँ तो कर ली थी हमने बुलंद आवाज़
लड़ना जो था अंग्रेजों के ख़िलाफ़
इंक़लाब जिन्दाबाद के नारे गूँज रहे थे
आज़ादी के लिए युद्ध छिड़ चुका था

कही है संकीण खाइ, कही है ऐतिहासिक इमारते
मन्दिर हो या मस्जिद, गुरुद्वारा हो या चर्च
हर कोई माँग रहा था मन्नन्ते, पूरी होती गयी इबादतें
सज़दे में झुकाए शीश उन वीरांगनाओ के नाम
निःशब्द हो जाती आवाज़ उनकी गाथाओ के साथ
उनकी शाहदत पर फक्र करती दुनिया आज
मगर एक नज़र आज के अंधियारे के नाम
कुछ पंक्तियों के साथ करते हुए शुरुआत

कहीं कहीं धर्म, मज़हब को मोड़ तोड़ा गया
प्रशन चिन्ह में सजाकर वार्तालाप के धुएँ से
गहमा गहमी में जनता के समक्ष पेश हुआ
औरतो पर जुलम की कहानियाँ भी लिखी
मगर हर जन यहाँ रावण भी नहीं
कई दफा दिल रोता है , अंदर से चकोरता है
देश की सभ्यता, विलुप्त होती संस्कृति पर
शिनभीन होती ईमानदारी, वफ़ादारी पर
अर्थ ये नहीं कि हर प्राणीजन भ्रमित है
अपितु इन्हे पूँछ हिलाना पसंद है
इन्हे पूँछ हिलाना पसंद है ||

14 thoughts on “गूँज

  1. MEDHA CHUGH August 17, 2018 / 12:42 pm

    A wonderful piece full of patriotism and pointing problems at same time…you nailed it..

    Liked by 1 person

    • Shayra August 17, 2018 / 12:44 pm

      Thanks a lot. Thanks for understanding it fully😆

      Liked by 1 person

  2. mistimaan August 17, 2018 / 4:26 pm

    Loved it

    Like

  3. Madhusudan August 19, 2018 / 4:25 am

    Bahut hi khubsurat panktiyon se saji aapki ye kavita….saath hi dil ko jhakjhor denewali aapki antim panktiya.

    Like

    • Shayra August 19, 2018 / 5:38 am

      Bahut bahut shukriya sir 😆. Thanks for reading.

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s